Swapandosh : स्वप्नदोष को रोकने के अद्भुत उपाय (how to stop nightfall)

Swpandosh ko kaise roke yaa nightfall ko kaise door kare upay tips – नमस्कार दोस्तों आज के इस पोस्ट में मैं आप लोग को स्वपनदोष से बचने के लिए एक ऐसी अद्भुत वाली टिप्स बताने वाला हूं जिसको इस्तेमाल करने के बाद क्या यूं कहें कि इस टिप्स का पालन करने के बाद आप स्वप्नदोष को रोकने में सफल हो जाएंगे इसके लिए आपको नीचे दिए गए निर्देशों का पालन करना होगा.

सबसे पहले आपको समझना होगा कि स्वप्नदोष कोई बीमारी नहीं है यह एक मानसिकता है और कुछ छोटी-मोटी गलतियों से स्वप्नदोष ज्यादा होने के संभावनाएं बन जाते हैं.

आज का लेख आप लोग को स्वप्नदोष रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाला है यहां पर मैं आपको कुछ आयुर्वेदिक तरीके बताने वाला हूं जिसको यदि आप अपने जीवन में अपनाते हैं तो निश्चित तौर पर स्वप्नदोष को रोक पाएंगे.

Swapandosh  स्वप्नदोष को रोकने के अद्भुत उपाय (how to stop nightfall)

स्वप्नदोष (swpandosh) को रोकने के लिए सात्विक भोजन का इस्तेमाल करें

यदि आप स्वप्नदोष (swpandosh) से परेशान हैं और कमजोरी का अनुभव कर रहे हैं तो आपको सात्विक भोजन करना चाहिए भोजन में सात्विक और तामसिक दो प्रकार के भजन होते हैं यदि आप सात्विक भोजन करते हैं तो इससे स्वप्नदोष रोकने में सफलता मिलती है.

स्वप्नदोष एक मानसिक बीमारी है जो की मां से होती है और यदि आप सात्विक भोजन करेंगे तो आपके विचार भी साथी हो जाएंगे जिससे स्वप्नदोष रोकने में काफी मदद मिलेगी.

एक बार जरूर पढ़ें – स्वपनदोष क्यों होता है [ सम्पूर्ण ज्ञान ]

स्वप्नदोष को रोकने के लिए दाएं दिशा (rightside) में सोए

यदि आपको बहुत ज्यादा स्वप्नदोष की बीमारी है या फिर बहुत ज्यादा आपको स्वप्नदोष होता है तो आपको सोने की नियम में थोड़ा फिर बदल करने की जरूरत है आयुर्वेद के अनुसार जब हमें भोजन पचना होता है तो हम दोपहर के समय left side में लेते हैं ताकि भोजन का पाचन शुरू हो जाए।

यह इसलिए होता है क्योंकि जब हम लेफ्ट साइड में सोते हैं तो हमारे सूर्य नाड़ी चालू हो जाती है या सक्रिय हो जाती है । जिससे दोपहर के समय खाया हुआ भोजन को पचाने में काफी मदद मिलती है।

ये भी पढ़ें पेट की चर्बी कैसे हताएं [ सबसे तेज तरीका ]

वहीं पर जब हम राइट साइड में सोते हैं तो चंद्र नाड़ी सक्रिय हो जाती है। हमारे शरीर में चंद्र नाड़ी को सक्रिय होने से शरीर में शीतलता आती है। अगर इसको सरल भाषा में समझा जाए तो जब हमारे शरीर में सूर्य नाड़ी का प्रवाह तेजी होता है तो हमारे शरीर में गर्मी उत्पन्न होती है ।

और जब हमारे शरीर में चंद्र नाड़ी का प्रवाह होता है तो हमारे शरीर में ठंडक का एहसास होता है।

ऐसे में दाएं और मुंह करके सोने से हमारे शरीर में शीतलता आती है और हमारे शरीर की गर्मी शांत होती है जिसकी वजह से स्वप्नदोष नहीं होता है।

Swpandosh kyo hota hai

स्वप्नदोष को रोकने के लिए योगासन (yoga) का करें प्रयोग

योगासन से हमारे शरीर में ब्लड का सर्कुलेशन अच्छे तरीके से होता है और हमारे शरीर के हर एक हिस्से में ब्लड की मात्रा समान मात्रा में पहुंचती है। जिससे हमारे शरीर का स्वास्थ्य बेहतर बनता है।

ऐसे में यदि आपको स्वप्नदोष होता है और कमजोरी का एहसास हो रहा है तो आप योगासन का प्रयोग करके और योग को अपने दिनचर्या में शामिल करके अपने शरीर को पहले से बेहतर बना सकते हैं ।

और इससे निश्चित तौर पर आपके शरीर पर स्वप्नदोष के प्रभाव में कमी आएगी और आपके शरीर में स्वप्नदोष के द्वारा आई हुई कमजोरी दूर होगी इसके साथ ही योग और मेडिटेशन करने से स्वप्नदोष रोकने में भी काफी मदद मिलती है

ये भी पढिए – गर्भ में लड़का है या लड़की कैसे पता करें

मेडिटेशन (meditation) से करें स्वप्नदोष की बीमारी का इलाज

आप में से बहुत सारे लोगों को पता नहीं होता कि स्वप्नदोष एक मानसिक बीमारी है जो कि विचारों से भी उत्पन्न होती है ऐसे में यदि आपके दिमाग में अश्लील विचार आते रहते हैं तो आपको मेडिटेशन करने की जरूरत है।

मेडिटेशन करने से आपके दिमाग में जो विचार है उसे पर कंट्रोल होगा और अश्लील विचारों पर भी रोक लगेगी जिससे आपको स्वप्नदोष को रोकने में काफी मदद मिलेगी।

यदि आप आप रोजाना मेडिटेशन करते हैं तो इससे आपके शरीर में आई हुई कमजोरी भी धीरे-धीरे दूर होनी शुरू हो जाएगी क्योंकि आपके दिमाग में अच्छे विचार और सकारात्मक विचार आएंगे जो कि आपके शरीर पर प्रतिकूल असर डालेंगे।

Conclusion -स्वप्नदोष को कैसे रोके | नाइटफाल को कैसे रोके | nightfall rokne ke upay in hindi

दोस्तों आज की लेख में swpandosh ko kaise roke (स्वप्नदोष को रोकने के अद्भुत उपाय) हमने आपको 4 ऐसे तरीके बताए हैं जिससे आप किसी भी प्रकार का स्वप्न दोष की बीमारी का इलाज कर सकते हैं और इसके लिए आपको कोई पैसे खर्च करने की जरूरत नहीं है यह बिल्कुल मुफ्त है भारत में आयुर्वेद से काफी बीमारियों का इलाज किया गया है चाहे वह शारीरिक बीमारी हो या मानसिक बीमारी हो।

स्वप्नदोष कोई शारीरिक बीमारी नहीं है यह एक तरह की मानसिक बीमारी है और यदि आप ऊपर बताए गए उपायों को अपने दिनचर्या में शामिल करते हैं तो आप स्वप्नदोष की बीमारी को रोक सकते हैं इसके साथ ही आप अपने कमजोर शरीर को भी ताकतवर बना सकते हैं।

लेकिन इसके लिए आपके ऊपर बताया गया तरीके और टिप्स को सख्ती से पालन करना होगा। स्वप्नदोष की बीमारी गलत खान-पान और गलत दिनचर्या से भी होती है इसलिए अपने दिनचर्या को बेहतर बनाएं और अच्छी आदतों का इस्तेमाल करें और अच्छे भजन और सात्विक भोजन का इस्तेमाल करें और स्वप्नदोष की बीमारी को दूर भगाएं।

Note – यहां बताई गई जानकारी एजुकेशनल purpose से बताई गई है यदि आपको बहुत ज्यादा मात्रा में स्वप्नदोष हो रहा है तो तत्काल किसी डॉक्टर से संपर्क करें

Leave a Comment