जानिए Google में सवाल कहां से आते हैं 

गूगल के सवाल कहां से आते हैं – आजकल गूगल का इस्तेमाल कई सारे लोग करते हैं और कई सारे नहीं बल्कि पूरी दुनिया Google का इस्तेमाल करती है अगर सर्च इंजन के बाद किया जाए तो गूगल पूरी दुनिया में सबसे टॉप लेवल का search engine है जो सेकंड में कहें या फिर माइक्रो सेकंड में आपको बेस्ट सर्च रिजल्ट आपके कंप्यूटर स्क्रीन पर या कहें तो आपके ब्राउज़र में show करता है।

image 390
googe me sawal kaise bheje

काफी सारे लोगों के मन में एक सवाल आता है या आता होगा कि Google में सवाल कहां से आते हैं और कैसे गूगल आपके सभी सवालों का जवाब दे देता है तो यह एक बहुत बड़ा प्रोसेस है लेकिन गूगल आपको Problem बहुत ही आसानी से solve करके दे देता है।

बात करते हैं कि Google आपके सवालों का जवाब कैसे देता है और बात वहां आ जाती है कि सबसे सटीक जवाब आपको कैसे मिलता है और कभी-कभी आप देखते होंगे कि जब आप Google पर कोई सवाल सर्च करते हैं तो आपको उससे संबंधित जानकारी मिलती है सही जवाब नहीं मिलता तो यह सब कैसे होता है इसके बारे में आज का article है तो पूरा ध्यान से पढ़िए और कुछ समझ में नहीं आए तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में अपने सवाल पूछ सकते हैं।

Google kya hai aur pahla search engine kaise hai ?

गूगल एक search engine है और पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाला सर्च इंजन है और गूगल अभी तक नंबर वन सर्च इंजन इसलिए बना हुआ है क्योंकि गूगल अपने आपको हमेशा अपडेट रखता है दूसरे कंपटीशन वाले सर्च इंजन के मुकाबले Google हमेशा अपने सर्च इंजन प्रोग्राम या algorithm को नए समय generation के हिसाब से अपग्रेड करता रहता है।

सर्च इंजन गूगल पहला सर्च इंजन नहीं है सबसे पहले याहू सर्च इंजन होता था हालांकि अभी भी है लेकिन अभी नंबर वन की बात करें तो गूगल नंबर वन है इससे पता चलता है कि जो पहले आता है .

इसका मतलब यह नहीं है कि वह हमेशा रहेगा जो अपने आपको हमेशा update रखेगा और लोगों की जरूरत को ध्यान में रखकर अपने आपको upgrade करेगा अपने सिस्टम को और अपने बिजनेस को technology और समय के हिसाब से नया बनाता रहेगा वही इस दुनिया में राज करेगा।

गूगल में सवाल कहां से आता है? 

देखें Google एक सर्च इंजन है और यह बहुत बड़ा टेक्नोलॉजी कंपनी है इसका काम ही है लोगों के सवालों का सही जवाब देना और सही तरीके से सर्च करके एक्यूरेट सवाल का सही जवाब व्यूअर तक पहुंचाना गूगल का काम है।

गूगल पर किसी भी सवाल का जवाब आपको गूगल लिखकर नहीं देता या फिर content गूगल नहीं बनाता यह दुनिया भर के कंटेंट क्रिएटर अपने-अपने वेबसाइट और वीडियो प्लेटफार्म के जरिए अपने अपने कंटेंट बनाते हैं.

 और अपने वेबसाइट को Google के सर्च इंजन यानी गूगल सर्च कंसोल में डालते हैं जिससे गूगल को उस वेबसाइट के बारे में जानकारी मिलती है कि उस website पर कौन सी सामग्री रखी गई है या कौन से कैटेगरी के सवाल के जवाब आपको इस वेबसाइट पर मिल जाएगी यह गूगल को पता होता है .

और उसके बाद जैसे ही आप Google के सर्च बॉक्स में कोई भी सवाल टाइप करते हैं तो गूगल का सर्च इंजन वोट दुनिया के सभी वेबसाइट को क्राउल करता है और उनमें से जो भी आपके सर्च क्वेरी से related websites कंटेंट होगा तो उसे सर्च इंजन पेज पर दिखा देता है फिर यूजर अपने जरूरत की सामग्री वाले लिंक पर क्लिक करता है और अपने सवालों का जवाब पा लेता है।

Google mein sawal Kaise aate Hain? 

अब जानते हैं कि गूगल में सवाल कैसे आता है जवाब के बारे में आपको ऊपर जानकारी मिल गई है लेकिन सवाल कैसे आता है कैसे पता चलता है Google को कि इस तरह के सवाल का जवाब हमें देना है.

 देखिए दुनिया में जितने भी सर्च इंजन है सभी पर लोग अपने अपने सवाल और समस्या से संबंधित सवाल पूछते हैं उनमें से सभी सवालों का जवाब Google के पास नहीं होता है या फिर यह तय है तो सभी सवालों का जवाब इंटरनेट पर मौजूद नहीं होता ।

लेकिन Google का एक अलग प्रोडक्ट है गूगल क्वेश्चन हब यानी Google का एक अलग से क्रिएटर के लिए बनाया गया टूल जिससे कंटेंट क्रिएटर को पता चलता है कि लोग गूगल पर कौन से सवाल पूछते हैं या किस सवाल के बारे में उत्तर जानना चाहते हैं।

होता क्या है कि जब कोई इंटरनेट यूजर Google सर्च इंजन में अपने सवाल अलग-अलग भाषाओं में टाइप करके सर्च करता है तो जिन के सवाल के जवाब इंटरनेट पर मौजूद हैं वह सभी सवालों का जवाब गूगल आपको गूगल के search engine results page पर दिखा देता है . ये भी पढिए – गूगल से पैसे कैसे कमाते हैं पूरी जानकारी

लेकिन उनमें से कई ऐसे सवाल होते हैं जिसका जवाब आपको internet पर मौजूद नहीं होता है और ऐसे सवालों को गूगल अपने क्वेश्चन हब के database में save करके रखता है और यह क्वेश्चन हब का access कंटेंट क्रिएटर को जो गूगल पर सवाल के जवाब देना चाहते हैं उनको मिल जाता है .

और user कंटेंट क्रिएटर questions hub में से सवालों को देख लेते हैं और यदि उनके पास इसका जवाब है तो वे उन सवालों का जवाब अपने blog या वेबसाइट पर पब्लिश कर देते हैं और फिर उसका लिंक गूगल के questions hub वाले tool में public कर देते हैं जिससे गूगल पर और ज्यादा जानकारी सटीक रूप से लोगों को मिलती रहती है।

गूगल आपको जानकारी कैसे देता है? (Google kaise jankari deta hai)

हमने आपको ऊपर के लाइनों में समझाया है कि गूगल कैसे आपके सवालों का जवाब बहुत ही कम समय में दे देता है देखिए Google को पता नहीं होता कि कौन से सवाल का कौन सा जवाब सही है .

लेकिन Google दुनिया भर के सभी वेबसाइट पब्लिशर के कंटेंट को लोगों के सवाल से संबंधित क्वेरी के हिसाब से सर्च इंजन के पेज पर दिखाता है और जब कोई यूजर उस सवाल से संबंधित वेबसाइट के लिंक पर क्लिक करता है .

और उसी website पर रहकर अपने सवालों का जवाब लेता है तो गूगल को पता चलता है कि इस वेबसाइट पर जो भी जानकारी या सामग्री है वह इसी सवाल से संबंधित है और इसी तरीके से गूगल उस वेबसाइट के कंटेंट को अपने सर्च इंजन में rank करता है।

अब बात आती है कि क्या कोई website गूगल में हमेशा के लिए पहले पोजीशन पर Rank करेगी तो इसका जवाब है यदि उस वेबसाइट का content एकदम सही होगा तो वह वेबसाइट का कंटेंट गूगल के सर्च इंजन रिजल्ट पेज (SERP) पर हमेशा पहले नंबर पर रैंक करेगा लेकिन यदि उस वेबसाइट का सामग्री उस सवाल से संबंधित है .

लेकिन उतना सही जानकारी नहीं है या कह सकते हैं कि पूरी जानकारी नहीं दी गई है तो Google उस वेबसाइट के कंटेंट को डाउन करने लगता है और किसी अच्छे वेबसाइट के कंटेंट या कह सके तो किसी ऐसे वेब साइट को नंबर वन position पर rank करेगा जिसमें आपके सवालों के सबसे ज्यादा सटीक जवाब दिए गए हो।

Google कैसे जानता है कि कौन सी वेबसाइट पर सही जवाब दिए गए हैं?

अब आपका जो सवाल है वह काफी सटीक है और काफी इंटरेस्टिंग भी है कि Google कैसे जानेगा कि कौन सी वेबसाइट पर सही जवाब दिए गए हैं ऐसा भी हो सकता है कि आपने जो सवाल गूगल में type किया है किसी वेबसाइट पर उससे संबंधित जवाब दिए गए हैं लेकिन वह जवाब सही है कि नहीं कैसे पता चलेगा.

 तो Google और भी फैक्टर देखता है जब वह किसी वेबसाइट को अपने सर्च इंजन रिजल्ट पेज पर रैंक करता है जैसे कि गूगल सभी वेबसाइट को यूजर की activity के हिसाब से नंबरिंग करता है या कह सके तो सभी वेबसाइट को rating देता है उस वेबसाइट पर जितनी बार भी क्लिक किए गए हैं .

और कितने समय तक कोई user उस सवाल के जवाब से संबंधित वेबसाइट (related websites) पर रह चुका है उससे पता चलता है कि यह वेबसाइट सही जवाब दे रहा है क्योंकि जब कोई इंटरनेट यूजर अपने सवालों का जवाब ढूंढता है .

और उसको सही जवाब नहीं मिलता तो वह उस वेबसाइट को जिस पर उसने पहली बार क्लिक किया है क्लोज कर देगा या बैक बटन पर क्लिक कर देगा यह back click कर देगा इससे गूगल को पता चल जाता है कि यूजर ने जो भी सवाल search engine में सर्च किया है उसका जवाब पहले नंबर की website में नहीं दिया गया है।

 फिर इस तरह से Google नीचे के दिए गए संबंधित रिजल्ट वाले वेबसाइट के लिंक पर click करता है और फिर से गूगल का जो रैंकिंग फैक्टर है वह काम करता है और देखता है कि यूजर इस दूसरे website पर कितनी देर समय व्यतीत करता है उससे पता चल जाता है कि कौन सी वेबसाइट में कितने सटीक जवाब दिए गए हैं ।

तो इस तरीके से google में वेबसाइट पहले नंबर पर रैंक तो होती है लेकिन यदि सवाल का सही जवाब नहीं दिया गया है और यूजर उस वेबसाइट पर टिक नहीं रहा है तो गूगल उस वेबसाइट को पहले पोजीशन से हटाकर डाउन पोजिशन पर रख देगी और फिर first position पर किसी ऐसे वेबसाइट को रखेगी जो उस वेबसाइट के संबंधित सवालों के जवाब देती हो।

Conclusion – गूगल के सवाल कहां से आते हैं ? 

तो अब आपको पता चल गया होगा कि गूगल के सवाल कहां से लिए जाते हैं और कैसे Google आपके सवालों का सही जवाब ला कर देता है कैसे गूगल किसी भी वेबसाइट को आईडेंटिफाई कर लेता है कि उस वेबसाइट पर दी गई सामग्री आपके सवालों का सही जवाब है यह सभी जानकारी यदि आपको अच्छी लगी हो तो आप अपने मित्रों को शेयर कीजिए ताकि उनको भी गूगल की इस महत्वपूर्ण काम के बारे में जानकारी मिल सके और पता चले कि गूगल में सवाल कहां से आते हैं।

Leave a Comment