Skip to content
Home » Home » कंप्यूटर के बारे में (computer ke bare me)

कंप्यूटर के बारे में (computer ke bare me)

हम जानेंगे कंप्यूटर के बारे में सभी बेसिक जानकारी एकदम आसान भाषा में । कई लोग मुझसे पूछ रहे थे कि कंप्यूटर की जानकारी के बारे में बता दो. मैंने भी सोचा कि Computer के बारे में basic knowledge तो सभी को होना जरूरी है. फिर मैंने सोचा कि चलो आज ही कंप्यूटर के बारे में बेसिक संपूर्ण जानकारी लिख देते हैं तो

अगर आप कंप्यूटर के बारे में संपूर्ण जानकारी जानना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको कंप्यूटर की बेसिक जानकारी होना जरूरी है तो आइए जानते हैं कंप्यूटर का सामान्य ज्ञान क्या है.

कंप्यूटर का बेसिक ज्ञान | कंप्यूटर के बारे में (computer ke bare me)

कंप्यूटर इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है और इस इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस में कई सारे भाग होते हैं जिसमें डिस्प्ले, माउस, कीबोर्ड और मदरबोर्ड के साथ सीपीयू जैसे उपकरण एक साथ आते हैं.

कंप्यूटर में जब भी हम कोई डाटा इनपुट करते हैं तो कंप्यूटर का सीपीयू हमारे उस डाटा को प्रोसेस करता है और हमें कुछ आउटपुट देता है. कंप्यूटर का सीपीयू जिस डाटा को प्रोसेस करके आउटपुट देता है वह आउटपुट हमें मॉनिटर पर डिस्प्ले होता है.

कंप्यूटर के भाग | computer ke part in hindi

थोड़ा सा और डिटेल में बात किया जाए तो कंप्यूटर मुख्य रूप से 2 पार्ट में बटा हुआ है और इन्हीं दोनों पाठ से कंप्यूटर बना भी हुआ है जिसका नाम है हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर.

कंप्यूटर के बारे में (computer ke bare me)
computer ki basic knowledge in hindi

कंप्यूटर हार्डवेयर के बारे में जानकारी | about computer hardware kya hai

कंप्यूटर के जिस भी भाग को हम छू सकते हैं उसे हार्डवेयर कहा जाता है वहीं पर जिस भाग को हम छू नहीं सकते उन्हें सॉफ्टवेयर कहा जाता है.

कंप्यूटर के हार्डवेयर भाग में माउस, कीबोर्ड, सीपीयू, प्रिंटर, मॉनिटर, माइक्रोफोन हेडफोन, और फैक्स मशीन जैसी डिवाइस होती हैं आप इन्हें हार्डवेयर कह सकते हैं.

कंप्यूटर सॉफ्टवेयर के बारे में जानकारी | about computer software kya hai

वहीं पर कंप्यूटर के सॉफ्टवेयर भाग की बात की जाए तो सॉफ्टवेयर एक तरह से प्रोग्राम होते हैं जिनमें कई सारे इंस्ट्रक्शन दिए होते हैं और इन्हीं इंस्ट्रक्शन को मिलाकर एक सॉफ्टवेयर बनाया जाता है और इन सॉफ्टवेयर पर हम काम करते हैं.

कंप्यूटर के सॉफ्टवेयर की बात की जाए तो अनगिनत सॉफ्टवेयर उपलब्ध हैं लेकिन यहां पर मैं आपको कंप्यूटर के ऐसे सॉफ्टवेयर के बारे में बताऊंगा जो कि रोजमर्रा कंप्यूटर पर काम में लिया जाता है जिसमें माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल, माइक्रोसॉफ्ट वर्ड, गूगल क्रोम ,ब्राउजर नोटपैड, वीडियो एडिटिंग सॉफ्टवेयर, कंट्रोल पैनल, माइक्रोसॉफ्ट पावरप्वाइंट जैसे कई सारे सॉफ्टवेयर है यहां पर मैंने आपको सिर्फ कुछ नाम ही दिए हैं.

एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर के बारे में जानकारी | about application software kya hai

कंप्यूटर सॉफ्टवेयर की बात की जाए तो आप समझ लीजिए जिस भी एप्लीकेशन को आप कंप्यूटर में ओपन करते हैं वह सब सॉफ्टवेयर हैं. इस तरह के सॉफ्टवेयर को एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर कहा जाता है.

सिस्टम सॉफ्टवेयर के बारे में जानकारी | about system software kya hai

वहीं पर कुछ अलग टाइप के सॉफ्टवेयर होते हैं जिन्हें सिस्टम सॉफ्टवेयर कहा जाता है क्योंकि इनके बिना आप कंप्यूटर का इस्तेमाल नहीं कर सकते इसीलिए इन्हें सिस्टम सॉफ्टवेयर कहा जाता है.

सिस्टम सॉफ्टवेयर में आप किसी भी कंप्यूटर का ऑपरेटिंग सिस्टम समझ सकते हैं जब हम कंप्यूटर को ओपन करते हैं ऑन करते हैं तो सबसे पहले जो कंप्यूटर में डिस्प्ले होता है वह हमारा सिस्टम सॉफ्टवेयर होता है.

विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम के बारे में

पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला सिस्टम सॉफ्टवेयर माइक्रोसॉफ्ट विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम है.

यदि आप लैपटॉप चलाते हैं या कंप्यूटर चलाते हैं और आपके लैपटॉप या कंप्यूटर में विंडोज का ऑपरेटिंग सिस्टम है इसका मतलब यह है वह विंडोज का ऑपरेटिंग सिस्टम एक सिस्टम सॉफ्टवेयर है क्योंकि इसके बिना हम किसी भी लैपटॉप या कंप्यूटर को चला नहीं सकते.

कंप्यूटर की बेसिक जानकारी की बात हो रही है तो आपको यह जानना जरूरी है कि आखिर कंप्यूटर काम कैसे करता है.

कंप्यूटर काम कैसे करता है | कंप्यूटर के मुख्य कार्य | computer kaise kam karta hai

कंप्यूटर 3 सेक्शन में काम करता है

इनपुट – प्रोसेस – आउटपुट

जब भी हम किसी इनपुट डिवाइस का इस्तेमाल करके कंप्यूटर में डाटा भेजते हैं या फिर हम कंप्यूटर को दिशा निर्देश देते हैं ऐसे में इसे कंप्यूटर में डाटा इनपुट करना कहा जाता है और इसके लिए हमें इनपुट डिवाइस का इस्तेमाल करना पड़ता है.

इनपुट डिवाइस क्या होता है | input device kya hai

इनपुट डिवाइस ऐसे डिवाइस हैं जिनका इस्तेमाल करके हम किसी कंप्यूटर में डाटा या इंस्ट्रक्शन भेजते हैं. इनपुट डिवाइस इस प्रकार हैं-

कीबोर्ड ,माउस, स्कैनर ,माइक्रोफोन ,बारकोड स्कैनर ,डिजिटल इंटरएक्टिव पैनल etc यह सभी इनपुट डिवाइस के एग्जांपल हैं.

इनपुट डिवाइस का इस्तेमाल

मान लीजिए कि हमें अपने कंप्यूटर में एक लेटर लिखना है ऐसे में हम बिना कीबोर्ड के कंप्यूटर में लेटर नहीं लिख सकते या लेटर टाइप नहीं कर सकते इसके लिए हमें एक कीबोर्ड की जरूरत होगी आप इसे मोबाइल की तरह भी समझ सकते हैं.

मान लीजिए हमें अपने मोबाइल से किसी को ईमेल करना है ऐसे में हम जीमेल का इस्तेमाल करके ईमेल भेजते हैं जब हम जीमेल ओपन करते हैं और किसी को ईमेल भेजने के लिए क्लिक करते हैं तो हमारे मोबाइल का कीपैड ओपन हो जाता है तो यह कीपैड ही हमारा इनपुट डिवाइस होता है उसी तरीके से कंप्यूटर की दशा में कीबोर्ड इनपुट डिवाइस का काम करता है.

प्रोसेसिंग क्या होता है | Processing kya hota hai

जैसा कि मैंने पहले भी बोला कंप्यूटर में किसी भी कार्य को करने के लिए हमें इनपुट डिवाइस का इस्तेमाल करके कोई भी डाटा को इनपुट करना होता है इसके बाद जब हमारे कंप्यूटर में डाटा इनपुट हो जाता है तो हमारा कंप्यूटर किसे प्रोसेस करता है.

“कंप्यूटर में डाटा प्रोसेसिंग करने की प्रक्रिया को ही प्रोसेसिंग कहा जाता है”

डाटा प्रोसेसिंग को हम कुछ इस उदाहरण से समझते हैं | data processing example

मान लीजिए कि हमें कंप्यूटर में केलकुलेटर का इस्तेमाल करना है तो हम किस तरह से कैलकुलेटर का इस्तेमाल करेंगे-

हम सबसे पहले तो केलकुलेटर एप्प ओपन करेंगे.

इसके बाद कंप्यूटर के कीबोर्ड से जिस भी संख्या को जोड़ना है उसे हम कुछ इस फॉर्म में इनपुट करेंगे.

4 + 5

इसके बाद हम अपने कंप्यूटर के कीबोर्ड से इंटर करेंगे.

हमारा कंप्यूटर समझ जाएगा कि यूजर को इस दो संख्या को जोड़कर बताना है ऐसे में कंप्यूटर सबसे पहले डाटा रीड करेगा पहला डाटा 4 है उसके बाद से प्लस (+) का निशान है यानी जोड़ना है .

दूसरा संख्या 5 है इसके बाद कंप्यूटर हमारे द्वारा दिए गए Intrustion data को प्रोसेस करेगा इन डाटा को जोड़कर हमें एक आउटपुट देगा .

इस आउटपुट को हम कंप्यूटर के डिस्प्ले पर देख सकते हैं यह सभी प्रक्रिया डाटा प्रोसेसिंग के अंदर आती है.

यानी हमने कंप्यूटर के कीबोर्ड से उस डाटा इनपुट किया उसके बाद से कंप्यूटर में जो एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर है उसने इस डेकोरेट किया और हमें कुछ आउटपुट दिया लेकिन इस आउटपुट के पहले क्या हुआ?

” इन सभी डाटा को कंप्यूटर ने सबसे पहले इनपुट data को रीड किया फिर प्रोसेस किया उसके बाद हमें आउटपुट दिया”

आउटपुट डिवाइस क्या होता है | ouput device kya hai

आउटपुट डिवाइस क्या होता है सीधा सा जवाब है कंप्यूटर की सभी जानकारी को हम जिस स्क्रीन पर देखते हैं वही आउटपुट डिवाइस होता है. जैसे मान लीजिए अगर कंप्यूटर में जो भी जानकारी को देखना है तो हमें इसके लिए एक मॉनिटर की जरूरत पड़ेगी मॉनिटर टीवी स्क्रीन जैसा ही होता है और यह कंप्यूटर में जो भी डाटा है उसको डिस्पले करता है.

अगर हमें कंप्यूटर में किसी ऑडियो को सुनना है तो उसके लिए हेडफोन की जरूरत पड़ेगी. या फिरकंप्यूटर मेंरिकॉर्ड की गई आवाज को सुनने के लिए हमें एक ऑडियो स्पीकर की जरूरत पड़ेगी.

Computer Output device example

मान लीजिए कि हमें कंप्यूटर में मूवी देखनी है ऐसे में हम मॉनिटर पर मूवी का सीन देख सकते हैं लेकिन अगर हमें उसकी आवाज सुननी है तो हमें कंप्यूटर में साउंड कनेक्ट करना पड़ेगा साउंड स्पीकर 1 तरह से हमारे लिए आउटपुट डिवाइस है

वहीं पर अगर हमें कंप्यूटर में दिए डाटा को देखने के बाद हमसे कहीं हार्ड कॉपी में भेजना चाहते हैं तो इससे प्रिंट करना पड़ेगा और इसके लिए हमारे पास प्रिंटर होना चाहिए.

फिर हम उस डाटा को प्रिंट करके डॉक्यूमेंट को बाहर निकाल सकते हैं और फिर उसको फिजिकली रूप से इस्तेमाल कर सकते हैं.

कंप्यूटर की बेसिक जानकारी की बात हो रही है कंप्यूटर के सामान्य ज्ञान की बात हो रही है ऐसे में सीपीयू के बारे में जानकारी ना लेना कुछ कमी सा लगता है आपने बहुत बार सीपीयू का नाम सुना होगा लेकिन समझ में नहीं आया होगा कि आखिर सीपीयू होता क्या है

आइए हम जानते सीपीयू के बारे में आखिर यह सीपीयू क्या है और जब कंप्यूटर की बात होती है तो सीपीयू क्या होता है और यह क्या कार्य करता है

सीपीयू क्या है | CPU ka Full Form in hindi | CPU kya hai

सीपीयू का फुल फॉर्म होता है सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट. CPU = central processing unit

C for central

p for processing

u for unit

अभी हमने ऊपर पड़ा कि जब हम कंप्यूटर में कोई डाटा भेजते हैं तो कंप्यूटर उन कांटा को प्रोसेस करता है और इस प्रक्रिया को प्रोसेसिंग कहा जाता है यह सब कार्य सीपीयू के द्वारा किया जाता है.

सीपीयू की परिभाषा

यानी सीपीयू सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (CPU) , कंप्यूटर का मुख्य भाग है जो कंप्यूटर के mother बोर्ड में रहता है . कंप्यूटर का मदरबोर्ड एक सर्किट बोर्ड होता है जिस पर कंप्यूटर में काम आने वाले सभी छोटे-छोटे ट्रांजिस्टर एंड chip लगे होते हैं.

वहीं पर कंप्यूटर के मदरबोर्ड में सीपीयू भी लगा होता है कंप्यूटर के मदरबोर्ड में सीपीयू ही एक ऐसा पार्ट है जो कंप्यूटर में सबसे ज्यादा महंगा होता है.

जितना ज्यादा महंगा CPU होगा, जितना ज्यादा एडवांस सीपीयू होगा जितना ज्यादा लेटेस्ट जेनरेशन का सीपीयू होगा ,आपका कंप्यूटर उतना ही फास्ट डाटा प्रोसेस करेगा.

कंप्यूटर में सीपीयू काम कैसे करते हैं | Computer me cpu kaise kaam karta hai

सीपीयू का मुख्य काम कंप्यूटर में इंस्टॉल किए गए ऑपरेटिंग सिस्टम और एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर को ऑपरेट करना होता है. एक तरफ से सीपीयू, कंप्यूटर इस्तेमाल करने वाले यूजर से किसी भी प्रकार की एक्टिविटी दर्ज करने पर काम करता है.

सीपीयू की काम करने की जानकारी और गतिविधि आप कंप्यूटर के टास्कबार में देख सकते हैं.

कंप्यूटर में कोई ऐसा सॉफ्टवेयर जिससे आपने ओपन कर रखा है लेकिन आप कोई इनपुट नहीं दे रहे हैं फिर भी सॉफ्टवेयर के बैकग्राउंड में बहुत सारे ऐसे टास्क होते हैं जो किए जाते हैं और यह सभी ऑटोमेटिक अपडेट होते हैं ऐसी कंडीशन में भी आप कंप्यूटर के सीपीयू (CPU) की गतिविधि (activity) देख पाएंगे.

सीपीयू में कई सारे प्रोसेसर लगे होते हैं जिन्हें चिप (chip) कहा जाता है ऐसे में इन्हें सीपीयू सिंगल कोर CPU कहते हैं, जिन सीपीयू में 2 कोर होते हैं उन्हें डुएल कोर सीपीयू (dual core) कहा जाता है वहीं पर जिस सीपीयू में 4 कोर होते हैं उन सीपीयू को Quad core cpu कहते हैं

वहीं पर हाई एंड पीसी में इससे भी ज्यादा सीपीयू कोर होते हैं जैसे मान लीजिए किसी सीपीयू में 6 कोर हैं ऐसे में इन्हें hexa core CPU और 8 कोर वाले सीपीयू को octa- core processor कहा जाता है.

ऐसे कई सारे कंप्यूटर होते हैं जिनमें 1 से अधिक सीपीयू का इस्तेमाल किया जाता है जिन कंप्यूटर में एक से अधिक सीपीयू प्रोसेसर का इस्तेमाल किया जाता है उन कंप्यूटर की स्पीड बहुत ज्यादा होती है.

अब बात करते हैं मदरबोर्ड के बारे में

मदर बोर्ड क्या है | motherboard kya hai | motherboard ke bare me jankari

जिस बोर्ड पर सीपीयू (cpu chip) लगा होता है उसी को मदरबोर्ड (mother) कहते हैं. एक्चुअल में यह एक सर्किट बोर्ड होता है लेकिन इसे मदरबोर्ड कहने के पीछे भी कारण है .

कंप्यूटर में जितने भी port , ट्रांजिस्टर और माइक्रो लेवल के सेमीकंडक्टर लगे होते हैं वह सभी इस सर्किट बोर्ड पर ही लगा होता है इसीलिए इस बोर्ड को मदरबोर्ड कहा जाता है.

मदर बोर्ड में कंप्यूटर का प्रोसेसर , RAM मेमोरी , स्टोरेज मेमोरी,हार्ड डिस्क ड्राइव ,सॉलि़ड स्टेट ड्राइव वीडियो कार्ड ,ग्राफिक्स कार्ड वगैरह सभी तरह के इलेक्ट्रॉनिक उपकरण लगे होते हैं.

कंप्यूटर के फायदे और नुकसान | Computer ke fayde aur nuksan in hindi

जैसे दुनिया में हर चीज के फायदे और नुकसान होते हैं उसी तरीके से कंप्यूटर के भी फायदे और नुकसान हैं .

कंप्यूटर के फायदे | computer benefits in hindi

कंप्यूटर से आप मल्टीटास्किंग कर सकते हैं मल्टीटास्किंग का मतलब यह है कि कंप्यूटर से आप एक समय में कई सारे काम निकलवा सकते हैं जब हम कंप्यूटर पर एक साथ कई सारे काम करते हैं तो इनको मल्टीटास्किंग कहा जाता है.

कंप्यूटर एक सेकंड में कई हजार करोड़ अरब खरबो तक गणना कर सकता है जो कि आम इंसान के लिए नामुमकिन है. एक तरफ देखा जाए तो इस हिसाब से कंप्यूटर इस्तेमाल करना हमारे लिए फायदा है.

कंप्यूटर की स्पीड – कंप्यूटर इतनी तेजी से काम कर सकता है उतनी तेजी से कोई इंसान काम नहीं कर सकता कि कंप्यूटर को बनाने वाला इंसान ही है लेकिन बहुत काम कर सकता है क्योंकि कंप्यूटर नहीं है हिसाब भी देखा जाए तो कंप्यूटर इस्तेमाल करना हर इंसान के लिए फायदेमंद है

कंप्यूटर पर वरना किए जाने वाली चीजों की शुद्धता– क्योंकि कंप्यूटर में सभी काम किसी एप्लीकेशन और सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करके किया जाता है और इन सभी सॉफ्टवेयर को पहले से किसी एक्सपर्ट प्रोग्रामर के द्वारा डेवलप करा जाता है ऐसे में कंप्यूटर से की जाने वाली घटना की जानकारी बहुत ही सटीक होती है इस हिसाब से भी देखा जाए तो कंप्यूटर इस्तेमाल करना हमारे लिए फायदेमंद है.

कंप्यूटर में डाटा सुरक्षित रखना –कंप्यूटर में किसी भी प्रकार के डाटा को सुरक्षित रख सकते हैं जैसे मान लीजिए कि आपके पास कोई डॉक्यूमेंट है आप उसे स्कैन करके कंप्यूटर में रख सकते हैं ऐसे में आपका डॉक्यूमेंट कंप्यूटर में सुरक्षित रह सकता है वैसे यह तो एक साधारण सा example था आप इसी तरीके से फिजिकल डॉक्यूमेंट को डिजिटल रूप से कंप्यूटर में सुरक्षित रख सकते हैं.

आप चाहे तो क्लाउड सर्वर पर भी अपने डॉक्यूमेंट को सुरक्षित रख सकते हैं और पूरी दुनिया में किसी भी जगह से इसे एक्सेस कर सकते हैं आप क्लाउड स्टोरेज भी खरीद सकते हैं.

cloud storage का मतलब यह है कि एक ऐसा स्टोरेज जोकि कोई फिजिकल डिवाइस में नहीं है इसे सर्वर पर रखा जाता है इसका मतलब यह है कि अगर आप अपने कंप्यूटर से क्लाउड स्टोरेज मे डॉक्यूमेंट रखते हैं तो आप दुनिया में किसी भी जगह से अपने इस डॉक्यूमेंट को इस्तेमाल कर सकते हैं. इस तरह से देखा जाए तो यहां भी कंप्यूटर के फायदे हैं.

कंप्यूटर के कुछ नुकसान भी है आइए इनके बारे में भी जानते हैं

कंप्यूटर इस्तेमाल करने के नुकसान | computer ke nuksan

कंप्यूटर में वायरस और मैलवेयर के जरिए साइबर हमले किए जाते हैं ऐसे में यदि आप अपने डॉक्यूमेंट फाइल और जरूरी चीजों को सुरक्षित नहीं रखते हैं तो यह वायरस और मैलवेयर हमारी फाइलों को करप्ट कर देते हैं.

इसके अलावा हैकिंग के जरिए कोई आपके कंप्यूटर में मैलवेयर भेजकर आपके कंप्यूटर से जानकारी चुरा सकता है इस तरह से देखा जाए तो कंप्यूटर इस्तेमाल करने का यह नुकसान है.

solution – ऐसे में आपको अपने कंप्यूटर में एक सही (paid antivirus) एंटीवायरस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करना जरूरी है

कंप्यूटर कैसे चलाते हैं सीखिए वीडियो से

लैपटॉप अपडेट कैसे करते हैं

ऑनलाइन साइबर क्राइम– यदि आप कंप्यूटर का इस्तेमाल करके शॉपिंग वगैरह करते हैं तो ऐसे में यदि कोई आपके ऑनलाइन अकाउंट, पर्सनल जानकारी कार्ड क्रेडिट कार्ड का नंबर चुरा ले तो आपके बैंक अकाउंट के साथ फ्रॉड हो सकता है. इस तरह से भी देखा जाए तो कंप्यूटर इस्तेमाल करने का नुकसान है.

सलूशन – आप इन चीजों को रोक नहीं सकते लेकिन आप सुरक्षित तरीके से ऑनलाइन शॉपिंग कर सकते हैं और यह ध्यान रखें कि आपके डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड की जानकारी किसी को ना लगे.

बेरोजगारी का मुद्दा– 2022 तक सब कुछ सही था लेकिन 2023 में AI की एंट्री के कारण, अब कंप्यूटर की वजह से लोगों को बेरोजगार होना पड़ रहा है. क्योंकि एआई के कारण लगभग सभी आईटी कंपनियां टीआई के जरिए अपना कामकाज करवा रही हैं और लोगों को नौकरियों से निकाल रहे हैं.

गूगल ने हाल ही में कई हजार कर्मचारियों को कंपनी से निकाल दिया और ना सिर्फ गूगल वालों की यह काम दुनिया की सभी कंपनियां कर रही हैं.

इस तरह से देखा जाए तो आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के आने के बाद यह बहुत बड़ा नुकसान हो रहा है जो आने वाले समय में मानव जीवन पर काफी प्रभाव डाल सकता है.

कंप्यूटर के बारे में (computer ke bare me basic information in hindi)

दोस्तों कंप्यूटर के बारे में जानकारी? जैसे कंप्यूटर की संपूर्ण बेसिक जानकारी (basic of computer in hindi full complete guide), part of computer in hindi etc. के बारे में मैंने आप लोग को बता दी.

और यहां पर लगभग कंप्यूटर के बारे में संपूर्ण ज्ञान दे दिया जो भी पहली बार कंप्यूटर के बारे में सामान्य जानकारी या जनरल नॉलेज की जानकारी सीखना चाहते हैं उनके लिए यह लेख बहुत ही बेहतरीन है.

आपके मित्र और रिश्तेदार को कंप्यूटर के बारे में (computerr ke bare mein jankari) नहीं पता और वे एक कंप्यूटर के बारे में जानना (learn basic of computer in hindi) चाहते हैं तो आप इस आर्टिकल जानकारी को उनके साथ फेसबुक और व्हाट्सएप पर जरूर शेयर करें.

ताकि वे भविष्य की आने वाली चुनौतियों से लड़ने के लिए तैयार हो सके. इस तरह की जानकारी के लिए आप megahindi.com वेबसाइट पर रोजाना विजिट करें. धन्यवाद